सोसायटी की रंडी आंटी (Hindi sex stories from ONSporn)

मोहल्ले गुड आफ्टर नून दोस्तों आशा करता हु आप अच्छे ही होंगे में नयी नयी रहने hindi sex stories from ONSporn आई गदरायी आंटी परमिला के उपर सब की नजरे गडी थी, किसी किसी के कहने के मुताबिक वह एक ब्यूटी पार्लर चलाती थी और उसकी आड़ में वह बड़े बड़े लोगो को लड़कियां सप्लाय करती थी. वैसे इस गदरायी आंटी के ठाठ अजीब थे, फोर व्हीलर गाडी और नौकर जैसा पति, मगर कुछ भी कहो आंटी ने अपने आप को अभी भी मेन्टेन कर के रखा था, उसकी बोडी को देख के कोई भी नहीं कहेगा की उसकी 18-19 साल की तो बेटी हैं. मेरा लंड भी इस आंटी को देख के कितनी बार टाईट हो जाता था. लेकिन उस दिन भाग्यवश इस आंटी को अपना लंड चुसाने का मौका मिल गया. और फिर उसकी कस कर चोदा पेली भी मार ली मैंने….वोह रविवार का दिन था….और मैं अपने छत पर कसरत ,मार रहा था. चुदाई की कहानी जरूर सुनना चाहिए मजे के लिए.

अब सुनिए चुदाई की असली कहानी गदरायी आंटी परमिला हमारे घर के तीसरे साइड वाले घर में रहेती थी और वह भी नहा के उपर अपने बाल सुखाने सुबह की हलकी हलकी धुप में आई थी. मैं पिछले सात साल से नियमित कसरत करता था इसलिए मेरी बोडी काफी अच्छी थी और मेरे कसिले बदन को देख के आंटी शायद मोहित हो गई, क्यूंकि मैंने चुपके से देखा की वो घड़ी घड़ी मेरी तरफ देख रही थी. मुझ से भी रहा नहीं गया और मैंने भी आंटी को देखना चालू कर दिया. हम दोनों की आँखे मिली और उसने मस्त स्माइल दे दी. मैंने ऐसी ही एक स्माइल उसे जवाब में दी. मेरी नजर उसके बूब्स पर पड़ी, वोह अपने बालो पर टॉवेल से फटके दे रही थी, लेकिन कसम से उसके बूब्स शायद अभी भी कसे हुए थे वर्ना आंटियो के चुंचे तो स्प्रिंग जैसे होते है, हिलते ही रहते है. मैं मनोमन कुछ भी कर के इसे आज झांसे में लेना चाहता था. तभी मेरी नजर सामने पड़े कोयलों पर पड़ी, छत पर नहाने का पानी गर्म करने का बम्बा लगा था और उसके पास थे कोयले. मैं गया वहाँ और एक कोयला उठा के दिवार पे अपना नंबर लिखने लगा. मुझे आशा थी की यह गदरायी आंटी नंबर नोट कर लेगी. दो मिनिट इ बाद आंटी निचे चली गई और मुझे लगा के वह शायद इंटरेस्टेड नहीं है….!वहा का माहौल बहुत अच्छा था मित्रों.

वहा जबरजस्त माल भी थी मित्रों दोपहर तक तो मैं यह बात बिलकुल भूल चूका था, करीबन 3 बजे मेरे फोन में नए नंबर से रिंग आई और फोन उठाते ही सामने कोयल जैसा आवाज आया, “हल्लो….!”

मैंने कहा, “हाँ, हल्लो…बोलिए”

सामने वाली औरत, “बस कुछ नहीं, इतना बताने के लिए ही फोन किया था की मुझे तुम्हारा नंबर मिल गया है…!”

ऐसे माहौल कौन नहीं रहना चाहेगा मित्रों ओये तेरी यह तो गदरायी आंटी परमिला ….मैं खुश हो गया और बोला, “ओह आंटी थेंक यु, आपने आज ही फोन किया..आपको पता है मै आपका आशिक हूँ एक नंबर का और कब से आपके पास आने की झंखना लिए बैठा था….!”उह क्या मॉल था मित्रों गजब

मेरा तो मन ही ख़राब हो जाता था मित्रों गदरायी आंटी, “अच्छा…तो आओ ना रोकता कौन है तुम्हे, शिवाजी मार्ग पर मेरा ब्यूटी पार्लर है, कहो तो गाडी भेजूं लेने के लिए…?”कुछ भी हो माल एक जबरजस्त था

मैंने कहा, “नहीं आंटी मैं आ जाऊँगा बाइक से…..!”

गदरायी आंटी, “जल्दी आओ मैं अभी बिलकुल फ्री हूँ, ग़प लगायेंगे.”

उसको देखकर किसी का मन बिगड़ जाये मैं मनोमन सोच रहा था गप तेरी मा की भोसड़े लगायेंगे अब तो तेरी भोसड़े में लंड लगायेंगे. मैं फोरन एक टाईट टी-शर्ट और जींस पहन शिवाजी मार्ग गया, वह मुझे परमिला ब्यूटी पार्लर ढूंढने में ज्यादा दीक्कत नहीं हुई. मैंने आंटी को रिंग लगाई और वोह बहार आई. क्या फटाका लग रही थी यार….उसने गुलाबी लिपस्टिक लगाई थी और काली हाफ स्लीव की शर्ट और निचे क्वाद्रो की पेंट. मैं मनोमन खुश हो रहा था की आज पत्ता सेट हो जाए तो लंड और जेब दोनों की कडकी दूर हो जाए. अंदर आते ही आंटी मुझे उसके केबीन में ले गई और उसने मेरे लिए थम्स अप मंगवा ली. थम्स अप आई और मैं वह पी रहा था की आंटी उठी और मेरे झांघ से अपनी झांघ साइड से लगाते हुए बोली, “ बोडी तो अच्छी बना रखी है राजा, मुझे तुम्हारे सिने की चौड़ाई बहुत अच्छी लगी “ इतना कहेते ही उसके हाथ मेरे टी-शर्ट से सिने पर फिरने लगे. उह भाई साहब की माल है उसकी चुत की बात ही कुछ और है. hindi sex stories from ONSporn

वोह बोली, “आज फ्री हो तो चलो किसी होटल में चलते है, मैं भी तूम से कुछ टिप्स ले लूँ”

कुत्ता हड्डी के लिए थोड़ी राह देखता है, मैंने गदरायी आंटी के स्तन पर हाथ रखकर कहा, “आंटी आप कहे तो कुँए में भी कूद जाएँगे…!”ओह्ह उसके यह का चुम्बन की तो बात अलग है.

Hindi sex stories

है उसके गांड मेरा मतलब तरबूज क्या गजब भाई आंटी बोली, “कुँए में तो नहीं लेकिन एक गड्डे में करुर कूदना पड़ेगा….!” उसके होंठो की लुच्ची हंसी उसकी भोसड़े की प्यास बता रही थी. मैंने उसके चुंचे दबाये और उसका हाथ मेरे लंड के उपर आके उसकी साइज़ मापने लगा. मैंने आंटी का काम आसन करने के लिए अपनी पेंट की ज़िप खोल लंड को बहार निकाला. आंटी लंड को देख पागल सी हो गिया और उसे हाथ से हलाने लगी, मैंने उसके स्तन और जोर से दबाये और आंटी लंड को मुठ्ठी में कसने लगी, मेरे मुहं से आह निकल गया और आंटी ने ज़िप को बंध किया और कहा चलो अभी शाम की राह मुझ से नहीं देखी जाएंगी. आंटी के केबिन से बहार निकलते मेरा लंड अभी तना हुआ था, पेंट के अंदर होने के बावजूद वोह पेंट को ऊँचे किया था. ब्यूटी पार्लर की लड़कियां लंड की तरफ देख कुछ खुसपुस करने लगी. उसकी बूब्स देखते ही उसको पिने की इच्छा हो गयी.

मित्रों मै सबसे पहले उसकी गांड मरना चाहता हु मैं आंटी की गाडी की आगे की सिट मैं चढ़ गया और गदरायी आंटी ने गाड़ी एक बड़े से होटल के तरफ ली, पुरे रास्ते में कभी उसकी भोसड़े पे हाथ रखता तो कभी उसके बूब्स दबाता. आंटी भी गियर बदलने के बाद कभी कभी मेरे लंड के गियर भी बदलती थी. होटल में शायद आंटी का कमरा बुक ही रहेता था क्यूंकि आते ही उसे काउन्टर से चाबी दे दी गई, वह मुझे ले के दुसरे मजले के एक कमरे की तरफ गई. रूम में आते ही उसने कड़ी लगाई और वह अपनी पेंट और शर्ट खोलने लगिया एयर बोली, “जल्दी अपना लंड निकाल मुझे उसे बहुत चुसना है…! ला तेरा तोता दे दे मुझे राजा…आज अपनी आंटी की चोदा पेली कर ले और उसे खुश कर दे तू फिर आंटी तेरी दासी और तेरे लंड की प्यासी….!” मैंने जैसे ही पेंट निकाली आंटी सही में उसके उपर भूखी शेरनी की तरह टूट पड़ी और लंड को चूसने लगी. उसके गले तक लंड लेने में वह बड़ी कारीगर लग रही थी क्यूंकि 7-8 इंच का लंड पूरा मुहं में लेके चूसना इतना आसन थोड़ी होता है. उसको पेलने की इच्छा दिनों से है मित्रों.

अच्छा चुदाई चाहे जितनी कर साला फिर भी लैंड नहीं मनता मित्रों गदरायी आंटी चुस्ती रही लंड को और मैं उसे मुहं के अंदर झटके देता रहा, आंटी चुसाई की प्यासी लगती थी क्यूंकि वह लंड को बिना बहार निकाले उसे चुस्ती ही रही और वह रुकने का नाम ही नहीं ले रही थी. बिच बिच में वह मेरे लंड के गोटों को भी चूस रही थी जिससे मुझे भी अब अच्छी खासी उत्तेजना चढ़ी हुई थी मैं भी इसे गदरायी आंटी को चोदने के लिए अब बेताब हो गया था. मैंने आंटी को हटाने के लिए मुहं से लंड एक झटके से निकाला. लंड पूरा लाल लाल हो चूका था. अब आंटी भी समझ गई की मेरा मित्रों मेरा तो मानना है जब भी चुत मारनी हो बिना कंडोम के ही मारो तभी ठीक नहीं सब बेकार उसके बूर की गहराई में जाने के बाद क्या मजा आया मित्रों जैसे उसके चुत में माखन भरा हो.
उसको देखने बाद साला चुदाई भूत सवार हो जाता मित्रों इरादा क्या है, वह अपनी पर्स फंफोसने लगी और उसमे से उसने एक कंडोम निकाला और बोली “ मेरे पति ने नसबंधी करवाई है तो यह जरुरी है वर्ना मुझे तो यह अपना दुश्मन लगता है ” मुझे तो कभी कभी चुदाई का टाइफिड बुखार हो जाता है और जब तक चुदाई न करू तब तक ठीक नहीं होता. hindi sex stories from ONSporn

एक बात और मित्रों चुत को चोदते समय साला पता नहीं क्यों नशा सा हो जाता बस चुदाई ही दिखती है उसने मुझे कंडोम दिया और मैंने उसे अपने लंड पर पहन लिया. मैंने अपना लौड़ा आंटी की भोसड़े में दे दिया और मैं उसे मिशनरी स्टाईल में ही चोदने लगा, उसके दोनों पाँव झांघो से उठा लिए अपने हाथो से और लंड दे दिया उसकी भोसड़े में. यह पोजीशन ऐसे स्त्रियों के लिए पीड़ादायक होती है लेकिन यहाँ इस गदरायी आंटी को पीड़ा हो रही हो ऐसा मुझे 5 मिनिट की चोदा पेली में जरा भी नहीं लगा.उपर से यह आंटी तो गांड उठा उठा के लंड को और भी अंदर ले रही थी साथ में उसके हाथ खुद के चुन्चो और होठो पर भी चल रहे थे. मेरी हालत ख़राब हो गई इस गदरायी भोसड़े को मारते मारते और मेरे पसीने छूटने लगे थे. आंटी मेरे सामने देख मुस्कुरा रही थी और मैंने इसे और जोर से चोदना चाहा, मेरी झड़प एकदम से बढ़िया और एक्स्प्रेक्स ट्रेन की स्पीड से मैं आंटी की भोसड़े पेलने लगा. दो मिनिट और चोदा पेली हुई और मेरा लंड जवाब दे गया. लंड ने वीर्य छोड़ा और मैं आंटी के उपर ही लेट गया. उह यह उसकी नशीली आँखे में एक दम चुदकड़ अंदाज है.

मित्रों देखने से लगता है की वो पका चोदा पेली का काम करती होगी आंटी ने मुझे उठाया और मैंने कंडोम निकाल उसे बिन में फेंक दिया, आंटी ने फोन कर के दो ज्यूस मंगवाए. ज्यूस पिने के बाद आंटी और मैं निचे आने के लिए आ रहे थे तो रास्ते में आंटी ने मुझे 1000 के दो नोट दिए और कहाँ की वो मेरे साथ लम्बे समय तक सबंध रखना चाहती है और बदले में वह मुझे पैसे और दुसरे सारे सुख भी दे सकती है. और तो और वोह अपने पार्लर की लडकियों की जवान भोसड़े भी कभी कभी मेरे लिए पेश कर सकती है, यह तो बड़े फायदे के डील थी इसलिए मैंने उसे तुरंत स्वीकार कर लिया. अब हम दोनों के सबंध 2 साल से है और आंटी का नाक और कान छोड़ सभी छेद मैंने चोदे हुए है, उसके पार्लर की अनीता भी मुझ से चुद्वाती है…..!मित्रों चुत को चाटेने के समय उसके बूर के बाल मुँह में आ रहे मित्रों मुझे तो कभी कभी चुत के दर्शन मात्र से खूब मजा आता क्योकि मई पहले बहुत बार अपने मौसी के लड़की को बिना पैंटी के देखा था वाह क्या मजा आया था क्या मजा आया दोस्तों आप भी मजा लीजिये. hindi sex stories from ONSporn

ONSporn के साथ, आप किसी भी प्रयास के साथ प्रीमियम और उच्च गुणवत्ता वाले वीडियो का अनुभव करेंगे।

इंडियन सेक्स स्टोरी का अगला भाग: ट्रेन में सुपर सेक्सी चूत को चोदा 

 38 views

0 - 0

Thank You For Your Vote!

Sorry You have Already Voted!

Like it? Share with your friends:

Leave a Reply

Your email address will not be published.

-+=